तत्सम और तद्भव शब्द | 100 से अधिक तत्सम तद्भव शब्द लिस्ट

तत्सम और तद्भव शब्द जैसा की आप जानते हैं कि हिन्दी व्याकरण में हम शब्दों का वर्गीकरण पढ़ रहे थे और इसी के अंतर्गत आज इस पोस्ट में हम तत्सम और तद्भव शब्द पढेंगे और जानेंगे कि तत्सम शब्द किसे कहते हैं? और तद्भव शब्द किसे कहते हैं? और साथ ही तत्सम तद्भव शब्द लिस्ट …

Read moreतत्सम और तद्भव शब्द | 100 से अधिक तत्सम तद्भव शब्द लिस्ट

अनेक शब्दों के लिए एक शब्द | One Word Substitution PDF

अनेक शब्दों के लिए एक शब्द | One Word Substitution भाषा को प्रभावशाली और आकर्षक बनाने के लिए हम काफ़ी चीजों का ध्यान रखतें हैं जिसमे सर्वनाम और अलंकर प्रमुख हैं, लेकिन इनके अलावां भी हम अनेक शब्दों के स्थान पर एक शब्द का इस्तेमाल करते हैं जो वाकई में भाषा को प्रभावशाली बनाता है …

Read moreअनेक शब्दों के लिए एक शब्द | One Word Substitution PDF

व्यंजन संधि किसे कहते हैं? व्यंजन संधि के उदाहरण

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि संधि तीन प्रक्रार के होते हैं, जिसमे से हम स्वर संधि के बारे में पहले ही पढ़ चुके हैं। इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि व्यंजन संधि किसे कहते हैं? और साथ ही व्यंजन संधि के उदाहरण भी देखेंगे।

व्यंजन संधि किसे कहते हैं

जब किसी व्यंजन के पश्चात् कोई व्यंजन अथवा स्वर आ जाए तो इससे उत्पन्न विकार को व्यंजन संधि कहते हैं। अर्थात व्यंजन से व्यंजन तथा व्यंजन से स्वर के मेल से उत्पन्न विकार को व्यंजन संधि कहते हैं। जैसे

  • वाक् + ईश = वागीश          (क् + ई = गी)
  • सत् + भावना = सद्भावना    (त् + भ = द्)
  • अहम् + कार = अहंकार      (म् + क = ड़्)

व्यंजन संधि के नियम

व्यंजन संधि को कुछ मुख्य नियमों में बाटा गया है, जो निम्न लिखित है।

नियम-1 :-

किसी वर्ग के पहले वर्ण (क् च् ट् त् प) का मेल किसी स्वर अथवा किसी वर्ग के तीसरे वर्ण (ग ज ड द ब) या चौथे वर्ण (घ झ ढ ध भ) अथवा अंतःस्थ व्यंजन (य र ल व) के किसी वर्ण से होने पर वर्ग का पहला वर्ण अपने ही वर्ग के तीसरे वर्ण (ग् ज् इ दु ब) में परिवर्तित हो जाता है। जैसे

  • दिक् + अंत = दिगंत          (क् + अ = ग)
  • सत् + भावना = सद्भावना   (त् + भ = द)
  • अच् + आदि = आजादी      (च् + आ = ज)
  • अप् + ज = अब्ज                (प् + ज = ब)
  • षट् + आनन = षडानन       (ट् + आ = ड)

नियम-2 :-

यदि “क्, च्, ट्, त्, प्” के बाद न् या म् के मेल अपने वर्ग के पंचम वर्ण में रूपान्तरित हो जाता है। जैसे

  • वाक् + मय = वाङ्मय          (क् + म = ङ्)
  • चित् + मय = चिन्मय          (त् + म = न्)
  • जगत् + नाथ = जगन्नाथ      (त् + न = न्)
  • तत् + मय = तन्मय             (त् + म = न्)
  • षट् + मुख = षण्मुख           (ट् + म = ण्)

नियम-3 :-

जब त् या ट् के बाद यदि च् या फ् हो तो त् या ट् के बदले च् हो जाता है। ज या झ हो तो हो जाता है। ट् या ठू हो तो ट् हो जाता है। ड् या ढ् हो तो ड तथा ल् हो तो हो जाता है। जैसे

  • उत् + चारण = उच्चारण        (त् + च = च)
  • सत् + जन = सज्जन              (त् + ज = ज)
  • उत् + डयन = उड्डयन           (त् + ड = ड)
  • उत् + लास = उल्लास           (त् + ल = ल)

नियम-4 :-

म् के बाद यदि कोई स्पर्श व्यंजन वर्ण आये तो म का अनुस्वार तथा बाद वाले वर्ण का रूपान्तरण स्पर्श व्यंजन के वर्ग का पंचम वर्ण हो जाता है। जैसे

  • अहम् + कार = अहंकार   ( म् + क = ड़्)
  • सम् + गम = संगम            (म् + ग = ड़्)
  • किम् + चित = किंचित      ( म् + च = ञ्)

नियम-5 :-

त वर्ग का च वर्ग से योग में च वर्ग तथा त वर्ग के ष्कार से योग में ट वर्ग हो जाता है। जैसे

  • महत् + छत्र = महच्छत्र       (त् + छ = छ)
  • द्रष् + ता = द्रष्टा                  (ष् + त् = ट)

नियम-6 :-

किसी वर्ग के अन्तिम वर्ण को छोड़कर शेष वर्णों के साथ ‘ह’ का मेल होता है तो ह उस वर्ग का चतुर्थ वर्ण हो जाता है, तथा ह के साथ वाला वर्ण अपने वर्ग का तीसरा वर्ण हो जाता है। जैसे

  • उत् + हत = उद्धत               (त् + ह = ध्)
  • उत् +हार = उद्धार               (त् + ह = ध्)

नियम-7 :-

जब ह्रस्व  अथवा दीर्घ स्वर के बाद ‘छ’ हो तो ‘छ’ के पहले ‘‘ जुड़ जाता है। जैसे

  • अनु + छेद = अनुच्छेद
  • परि + छेद = परिच्छेद
  • शाला + छादन = शालाच्छादन

लेख के बारे में-

इस आर्टिकल में हमने पढ़ा कि व्यंजन संधि किसे कहते हैं? और साथ ही व्यंजन संधि के उदाहरण भी देखें। इससे पहले हम मात्रालिंग और वचन आदि पढ़ चुके हैं। इस आर्टिकल के बारे में अपनी राय हमें टिप्पणी करें। यदि आप किसी और टॉपिक के बारे में जानना चाहे हैं तो हमें [email protected] पर मेल करें।

स्वर संधि किसे कहते हैं? | स्वर संधि के उदाहरण

जैसा की हम सभी जानते हैं कि संधि तीन प्रकार के होते हैं और स्वर संधि इनमे से एक है, तो आज हम पढेंगे कि स्वर संधि किसे कहते हैं और स्वर संधि के उदाहरण भी देखेंगे। इससे पहले हम हिन्दी व्याकरण में वर्ण विचार, शब्द विचार, वाक्य विचार और संज्ञा के बारे में पढ़ …

Read moreस्वर संधि किसे कहते हैं? | स्वर संधि के उदाहरण

कारक किसे कहते हैं – कारक के कितने भेद होते हैं?

कारक हिन्दी व्याकरण का प्रमुख अंग है, इसे संज्ञा (पद-परिचय) के अंतर्गत पढ़ा जाता है, कारक 4-5 या उससे उपर के बच्चों को पढाया जाता है, लेकिन कई प्रतियोगी परीक्षाओं में भी इससे सम्बंधित प्रश्न आते हैं। तो आज हम जानेंगे कि कारक किसे कहते हैं और कारक के कितने भेद होते हैं? कारक किसे …

Read moreकारक किसे कहते हैं – कारक के कितने भेद होते हैं?

वचन किसे कहते हैं और वचन के कितने भेद होते हैं

हिंदी व्याकरण में वचन का अर्थ संख्यावचन से होता है, संख्यावचन को संज्ञा के अंदर पढ़ा जाता है । तो आज हम पढेंगे कि वचन किसे कहते हैं और वचन के कितने भेद होते हैं? इससे पहले संज्ञा और लिंग के बारे में पढ़ चुके हैं। वचन किसे कहते हैं वचन का अभिप्राय संख्या से …

Read moreवचन किसे कहते हैं और वचन के कितने भेद होते हैं

सर्वनाम किसे कहते हैं | सर्वनाम के कितने भेद होते हैं?

सर्वनाम का नाम आपने आवश्य सुना होगा, इसे शब्द भेद (Parts of Speech) के अन्दर पढ़ा जाता है, शब्द भेद में संज्ञा के बाद सर्वनाम ही पढ़ा जाता है, तो आज हम पढेंगे कि सर्वनाम किसे कहते हैं और सर्वनाम के कितने भेद होते हैं? सर्वनाम किसे कहते हैं सर्वनाम का शाब्दिक अर्थ है-सबका नाम। …

Read moreसर्वनाम किसे कहते हैं | सर्वनाम के कितने भेद होते हैं?

लिंग किसे कहते हैं? और लिंग निर्धारण के नियम

हिंदी व्याकरण में लिंग बहुत महत्वपूर्ण टॉपिक है, जिसे संज्ञा का हिस्सा माना जाता है, लेकिन बहुत से लोग इसे विस्तार से नही नही जानते हैं। अतः आज हम इस आर्टिकल में पढेंगे कि, लिंग किसे कहते हैं? और लिंग निर्धारण के नियम कौन-कौन से हैं। लिंग किसे कहते हैं? लिंग शब्द का अर्थ चिह्न …

Read moreलिंग किसे कहते हैं? और लिंग निर्धारण के नियम

व्यंजन किसे कहते हैं? व्यंजन के कितने भेद होते हैं?

जैसा की हम सभी जानते हैं कि किसी भी भाषा को पढने के लिए ज़रूरी है कि सबसे पहले उसके वर्णमाला को समझा जाए। हिन्दी वर्णमाला में कुल 52 वर्ण होते हैं, जिसे दो भाग स्वर और व्यंजन में बाटा गया है। तो आज हम वर्णमाला के दुसरे भाग के बारे में पढेंगे और जानेंगे की व्यंजन किसे कहते …

Read moreव्यंजन किसे कहते हैं? व्यंजन के कितने भेद होते हैं?

स्वर किसे कहते हैं? स्वर के प्रकार

किसी भी भाषा को पढने के लिए ज़रूरी है कि सबसे पहले उसके वर्णमाला को समझा जाए। हिन्दी वर्णमाला में कुल 52 वर्ण होते हैं, जिसे दो भाग स्वर और व्यंजन में बाटा गया है। तो इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि स्वर किसे कहते हैं? और स्वर कितने प्रकार के होते हैं? स्वर किसे …

Read moreस्वर किसे कहते हैं? स्वर के प्रकार