इतनी शक्ति हमें देना दाता | Itni shakti hame dena data

इतनी शक्ति हमें देना दाता School Prayer की सीरीज में इससे से पहले इस ब्लॉग पर वीणा वादिनी वर दे और हमको मन की शक्ति देना पब्लिश हो चुका है | आज हम इतनी शक्ति हमें देना दाता को पढेंगे | Singer Pushpa Pagdhare, Sushma Shreshth Music Kuldeep Singh Song Writer Abhilash इतनी शक्ति हमें देना दाता इतनी शक्ति हमें देना दाता, मनका विश्वास कमज़ोर हो ना… हम चलें नेक रास्ते पे …

Read more

मम्मी की रोटी गोल गोल | Mummy ki roti gol gol

मम्मी की रोटी गोल गोल

मम्मी की रोटी गोल गोल (Mummy ki Roti Gol Gol) प्री-प्राइमरी (नर्सरी) कक्षा के विद्यार्थियों को पढाया जाने वाला एक कविता है, यह पोस्ट केवल शिक्षा के उद्देश्य से है। इस ब्लॉग पर पहले से कुछ Rhymes पब्लिश हो चुके हैं, जो निम्नलिखित हैं | इन्हें भी पढ़ें – जॉनी-जॉनी यस, पापा  नानी तेरी मोरनी को मोर ले गए बंदर मामा पहन पजामा मम्मी की रोटी गोल गोल मम्मी की रोटी गोल …

Read more

वन्दे मातरम् – बंकिमचन्द्र चट्टोपाध्याय | Vande mataram

Vande Mataram – बंकिमचन्द्र चट्टोपाध्याय भारत का राष्ट्र गीत वन्दे मातरम् बंकिमचन्द्र चट्टोपाध्याय द्वारा लिखा गया है, संस्कृत में ‘बन्दे मातरम्’ का कोई शब्दार्थ नहीं है तथा “वन्दे मातरम्” उच्चारण करने से “माता की वन्दना करता हूँ” ऐसा अर्थ निकलता है इसलिए इसका नाम Bande Mataram पडा | वन्दे मातरम्। सुजलाम् सुफलाम् मलय़जशीतलाम्, शस्यश्यामलाम् मातरम्। वन्दे मातरम्………… शुभ्रज्योत्स्ना पुलकितयामिनीम्, फुल्लकुसुमित द्रुमदलशोभिनीम्, सुहासिनीम् सुमधुरभाषिणीम्, सुखदाम् वरदाम् मातरम्। वन्दे मातरम्…………… कोटि-कोटि कण्ठ कल-कल …

Read more

Twinkle Twinkle little star nursery rhyme | ट्विंकल ट्विंकल लिटल स्टार

Twinkle Twinkle little star nursery rhyme Twinkle twinkle little star प्री-प्राइमरी कक्षा के विद्यार्थियों को पढाया जाने वाला एक नर्सरी कविता है, यह केवल मनोरंजन और शिक्षा के उद्देश्य से है। इस ब्लॉग पर पहले से कुछ Rhymes पब्लिश हो चुके हैं, जो निम्नलिखित हैं | इन्हें भी पढ़ें – जॉनी-जॉनी यस, पापा  मम्मी की रोटी गोल-गोल नानी तेरी मोरनी को मोर ले गए बंदर मामा पहन पजामा ट्विंकल ट्विंकल लिटल स्टार …

Read more

जॉनी जॉनी यस पापा | Johny Johny yes papa rhyme

Johny Johny yes papa

नमस्कार दोस्तों, इस आर्टिकल में हम Johny Johny yes papa कविता पढेंगे, यह प्री-प्राइमरी (नर्सरी) कक्षा के विद्यार्थियों को पढाया जाने वाला एक कविता है, बच्चे इसे पढ़कर बहुत खुश होते हैं | इससे पहले हम ट्विंकल-ट्विंकल लिटिल स्टार और नानी तेरी मोरनी को मोर ले गए पढ़ चुके हैं | Johny Johny yes papa Johny, Johny, Yes, papa? Eating sugar? No papa. Telling lies? No papa. Open your mouth Ha… …

Read more

नानी तेरी मोरनी को मोर ले गए | Nani Teri Morni ko mor le gaye

नानी तेरी मोरनी को मोर ले गए नानी तेरी मोरनी को मोर ले गए प्री-प्राइमरी कक्षा के विद्यार्थियों को पढाया जाने वाला एक नर्सरी कविता है, यह केवल मनोरंजन और मनोरंजन के उद्देश्य से है | इससे पहले इस ब्लॉग पर कुछ पोस्ट पब्लिश हो चुके हैं जो निम्नलिखित हैं – इन्हें भी पढ़ें- Lyrics of Nani Teri Morni ko नानी तेरी मोरनी को मोर ले गए, बाकी जो बचा …

Read more

बन्दर मामा पहन पजामा – Bandar Mama Pahan Pajama

बन्दर मामा पहन पजामा बन्दर मामा पहन पजामा एक नर्सरी कविता है, जो प्री-प्राइमरी कक्षा के विद्यार्थियों को पढाया जाता है, यह केवल मनोरंजन और मनोरंजन के उद्देश्य से है |इससे पहले इस ब्लॉग पर कुछ पोस्ट पब्लिश हो चुके हैं जो निम्नलिखित हैं – इन्हें भी पढ़ें जॉनी-जॉनी यस, पापा  ट्विंकल ट्विंकल लिटल स्टार नानी तेरी मोरनी को मोर ले गए मम्मी की रोटी गोल-गोल Bandar Mama Pahan Pajama बंदर मामा …

Read more

कंप्यूटर के प्रकार – माइक्रो, मिनी, मेनफ्रेम तथा सुपर | Types of Computer

कंप्यूटर के प्रकार। Types of Computer कंप्यूटर एक अत्यंत उपयोगी उपकरण है. आजकल अधिकांश क्षेत्रों में कंप्यूटर की सहायता ली जाती है. एक कंप्यूटर सभी कार्य नहीं कर सकता. इसलिए विभिन्न कार्यों में प्रयोग के लिए अलग-अलग प्रकार के कंप्यूटर बनाए गए हैं. आकृति और उपयोग के आधार पर कंप्यूटर को दो वर्गों में बाटा गया है – आकर या आकृति के अनुसार कंप्यूटर के प्रकार उपयोग के अनुसार कंप्यूटर …

Read more

उपसर्ग किसे कहते हैं? उपसर्ग के 3 प्रकार और उदाहरण

उपसर्ग किसे कहते हैं

क्या आप जानते हैं कि, उपसर्ग किसे कहते हैं ? और उपसर्ग कितने प्रकार के होते हैं ? अगर नही तो आज हम इसके बारे में पढेंगे और साथ ही इसके कुछ उदाहरण भी देखेंगे | उपसर्ग किसे कहते हैं ? उपसर्ग शब्द ‘उप’ तथा ‘सर्ग’ शब्द से मिलकर बना है, जिसका अर्थ होता है समीप आकर नया शब्द बनाना | अर्थात जो शब्दांश शब्दों के आदि (शुरुआत) में जुड़कर …

Read more

वाक्य विचार (Vakya Vichar) – वाक्य किसे कहते हैं ?

Vakya Vichar

वाक्य विचार (Vakya Vichar)

हिंदी व्याकरण के तीन भाग होते हैं: वर्ण, शब्द एवं वाक्य विचार | वाक्य विचार (Vakya Vichar) हिन्दी व्याकरण का तीसरा भाग है। इसके अंतर्गत वाक्य किसे कहते हैं, वाक्य भेद, विराम चिन्ह, वाक्य शुद्धि, मुहावरे तथा लोकोक्तियाँ आदि का अध्धयन किया जाता है।

वाक्य किसे कहते हैं ?

शब्दों का ऐसा सार्थक समूह जिससे वक्ता को पूरी बात समझ में आ जाये वाक्य कहलाता है। अथवा सार्थक शब्दों का व्यवस्थित समूह जिससे अपेक्षित अर्थ प्रकट हो, वाक्य कहलाता है। जैसे-शीला, रमेश की बहन है।

वाक्य और वाक्य के भेद – (Part of Sentence)

वाक्य के दो अंग होते हैं। उद्देश्य और विधेय

उद्देश्य –

उद्देश्य जिसके बारे में कुछ बताया जाता है, उसे उद्देश्य खाते हैं। जैसे गगन खेलता है। राम दौड़ता है। इन वाक्यों में गगन और राम के बारे में बताया गया है, अतः यह उद्देश्य हैं।

विधेय –

वाक्य के उद्देश्य के बारे में जो कुछ कहा जाता है, उसे विधेय कहते हैं। जैसे गगन ‘खेलता है’। राम ‘दौड़ता है’ इन वाक्यों में ‘खेलता है’ और ‘दौड़ता है’ विधेय है। या इसे यूँ समझा जा सकता है कि वाक्य से उद्देश्य को अलग करने के बाद जो भी बचता है, विधेय कहलाता है।

Vakya Vichar

वाक्य के प्रकार (Kinds of Sentence)

शब्द और अर्थ के आधार पर Vakya Vichar को 2 भागो में बाटा गया है

अर्थ के आधार पर

अर्थ के आधार पर हिन्दी में वाक्य के 8 प्रकार होते हैं।

विधानवाचक वाक्य (Assertive Sentence) –

जिन वाक्यों में क्रिया के करने या होने की सूचना मिले, उन्हें विधान वाचक वाक्य करते हैं।

जैसे- मैंने दूध पिया। वर्षा हो रही है। राम पढ रहा है।

निषेधवाचक वाक्य (Negative Sentence) –

जिन वाक्यों से कार्य ना होने का भाव प्रकट होता है, उन्हें निषेधवाचक वाक्य कहते हैं। जैसे- मैंने खाना नहीं खाया। तुम मत करो।

आज्ञा वाचक (Imperative Sentence) –

जिन वाक्यों से आज्ञा प्रार्थना आदि का बोध होता है, उन्हें आज्ञा वाचक वाक्य कहते हैं। जैसे- एक गिलास पानी लाओ. खड़े हो जाओ |

प्रश्नवाचक वाक्य (Interrogative Sentence) –

जिन वाक्यों से किसी प्रकार का प्रश्न पूछने का बोध होता है, उन्हें प्रश्नवाचक वाक्य कहते हैं। जैसे तुम कहाँ गए थे? राम क्या करता है?

इच्छा वाचक वाक्य (Sentence) –

जिन वाक्यों से इच्छा, आशीष एवं शुभकामना आदि का बोध हो, उन्हें इच्छा वाचक वाक्य कहते हैं। जैसे-भगवान आपको लंबी उम्र दें। आज मैं जमकर खाऊंगा।

संदेह वाचक वाक्य (Sentence indicating Doubt) –

जिन वाक्यों से संदेह या संभावना व्यक्त होती है, उन्हें संदेह वाचक वाक्य कहते हैं। जैसे आज वर्षा होगी हो सकती है। हो सकता है कि वह आज स्कूल आए |

संकेतवाचक वाक्य (Conditional Sentence) –

जिन वाक्यों में एक क्रिया का होना दूसरी क्रिया पर निर्भर होता है, उन्हें संकेतवाचक वाक्य कहते हैं। जैसे-अगर वर्षा होगी तो फसल भी ठीक होगा। आज अगर भैया होते तो सब ठीक होता।

विस्मयवाचक वाक्य (Exclamatory Sentence) –

जिन वाक्यों से आश्चर्य, घृणा, क्रोध, शोक आदि का भाव प्रकट हो, उन्हें विस्मयवाचक वाक्य कहते हैं। इसे ‘!’ चिह्न के साथ लिखा जाता है। जैसे-शाबाश! तुमने कर दिखाया |

रचना के आधार पर

रचना के आधार पर वाक्य के तीन भेद होते हैं-

सरल या साधारण वाक्य (Simple Sentence) –

जिन वाक्यों में एक ही उद्देश्य और एक ही विधेय होता है, साधारण वाक्य कहलाता है।

जैसे वह खेलता है। सीता पढती है।

संयुक्त वाक्य (Compound Sentence) –

जिन वाक्यों में दो या दो से अधिक सरल वाक्य योजको (और एवं, तथा, या, इसलिए, फिर भी, किंतु, परंतु, लेकिन, अतः) आदि से जुड़े हो, उन्हें संयुक्त वाक्य कहते हैं। जैसे-मैंने उसे समझाया था, फिर भी वह नहीं माना। हम लोग आने वाले थे, लेकिन तभी वर्षा हो गई|

मिश्रित वाक्य (Complex Sentence) –

जिन वाक्यों में एक प्रधान उपवाक्य हो और अन्य आश्रित उपवाक्य हो तथा जो आपस में (‘जो_____वह______;’ जितना____उतना____; ‘ जैसा_____वैसा_____) आदि से मिले हुए हो, उन्हें मिश्रित वाक्य कहते हैं। जब बारिश बंद होगी, तब हम घूमने जाएंगे। जो लड़का कमरे में बैठा है, वह मेरा भाई है |

Read more