रौद्र रस – Raudra Ras | परिभाषा और रौद्र रस के 8 उदाहरण

प्रिय पाठक! स्वागत है आपका the eNotes के एक नए आर्टिकल में इस आर्टिकल में हम रौद्र रस (Raudra Ras) के बारे में पढेंगे साथ ही हम रौद्र रस की परिभाषा और इसके उदाहरण भी देखेंगे। इससे पहले हमने रस के अन्य प्रकार जैसे हास्य रसशांत रस आदि के बारे में पढ़ चुके हैं।

रौद्र रस की परिभाषा

जब कोई आपकी आत्मीय निंदा करता है, बुरा-भला कहता है, अपमान करता है। तो उसके प्रति मन में जो क्रोध का भाव उत्पन्न होता है वही रौद्र रस कहलाता है।

अथवा

काव्य में जहाँ शत्रु, विरोधी, या कोई दुष्ट समाज किसी सम्मानित व्यक्ति, धर्म या समाज का अपमान करता है, तो उसके प्रक्रिया में जो क्रोध उत्पन्न होता है जो विभाव, अनुभाव तथा संचारी भाव से परिपुष्ट होकर आस्वाद्य हो जाता है, वही रौद्र रस कहलाता है।

रौद्र रस

रौद्र रस के अवव्य

स्थायी भाव: क्रोध
संचारी भाव: गर्व, चपलता, आवेग
आलम्बन: शत्रु या अनुचित कार्य करने वाला, जिसके प्रति क्रोध उत्पन्न हो
उद्दीपन: शत्रु आदि की उमंग
अनुभाव: आँखें लाल होना, भौंहें तन जाना दांत पीसना, गुस्से के कांपने लगना

रौद्र रस का उदाहरण क्या है?

अरे ओ! दुःशासन निर्लज्ज, देख तू नारी का भी क्रोध।
किसे कहते उसका अपमान, करा दूंगी मैं उसका बोध॥

श्री कृष्ण के सुन वचन अर्जुन क्रोध से जलने लगे
सब सील अपना भूलकर करताल युगल करने लगे॥

अतिरस बोले वचन कठोर
बेगि देखाउ मूढ़ नत आजू
उलटउँ महि जहँ जग तवराजू॥

सुनहूँ राम जेहि शिवधनु तोरा सहसबाहु सम सो रिपु मोरा
सो बिलगाउ बिहाइ समाजा न त मारे जइहें सब राजा॥

उस काल मरे क्रोध के तन काँपने उसका लगा
मानो हवा के ज़ोर से सोता हुआ सागर जगा॥

जो राउर अनुशासन पाऊँ।
कन्दुक इव ब्रह्माण्ड उठाऊँ॥
काँचे घट जिमि डारिऊँ फोरी।
सकौं मेरु मूले इव तोरी॥

खून उसका उबल रहा था।
मनुष्य से वह दैत्य में बदल रहा था॥

उबल उठा शोणित अंगो का , पुतली में उत्तरी लाली।
काली बनी स्वय वह बाला , अलक अलक विषधर काली॥

Conclusion: इस आर्टिकल में आपने (Raudra Ras) रौद्र रस की परिभाषा और इसके उदाहरण देखें, हमे उम्मीद है कि आपको यह जानकारी आवश्य समझ आयी होगा। अगर अभी भी समझने में कोई समस्या आ रही हो तो कमेंट बॉक्स में पूछें अथवा विडियो देखें।

Disclaimer:  the eNotes रिसर्च के बाद जानकारी उपलब्ध कराता है, इस बीच पोस्ट पब्लिश करने में अगर कोई पॉइंट छुट गया हो, स्पेल्लिंग मिस्टेक हो, या फिर आप-आप कोई अन्य प्रश्न का उत्तर ढूढ़ रहें है तो उसे कमेंट बॉक्स में अवश्य बताएँ अथवा हमें [email protected] पर मेल करें।  सामान्य हिन्दी से जुड़े अन्य आर्टिकल पढने के लिए the eNotes को टेलीग्राम पर फॉलो करें।

Leave a Comment