Home Hindi उपसर्ग किसे कहते हैं ? उपसर्ग की परिभाषा और उदाहरण

उपसर्ग किसे कहते हैं ? उपसर्ग की परिभाषा और उदाहरण

0
294

क्या आप जानते हैं कि, उपसर्ग किसे कहते हैं ? और उपसर्ग कितने प्रकार के होते हैं ? अगर नही तो आज हम इसके बारे में पढेंगे और साथ ही इसके कुछ उदाहरण भी देखेंगे |

उपसर्ग की परिभाषा

उपसर्ग शब्द ‘उप’ तथा ‘सर्ग’ शब्द से मिलकर बना है, जिसका अर्थ होता है समीप आकर नया शब्द बनाना | अर्थात जो शब्दांश शब्दों के आदि (शुरुआत) में जुड़कर उनके अर्थ में कुछ विशेषता लाते हैं, उपसर्ग कहलाते हैं | उदाहरण-

‘हार’ शब्द का अर्थ है- ‘पराजय’ परंतु इसी शब्द के आगे ‘प्र’ शब्दांश जोड़ने से नया शब्द बनेगा – प्र+हार, जिसका अर्थ होता है- चोट करना | इसी तरह ’आ’ जोड़ने से ‘आ+हार’ (भोजन), ‘सम’ जोड़ने से सम्+हार (विनाश) तथा ‘वि’ जोड़ने से वि+हार (घूमना) इत्यादि शब्द बन जाएंगे |

उपयुक्त उदाहरण में ‘प्र’, ‘आ’, ‘सम’ और ‘वि’ का अलग से कोई अर्थ नहीं है, परंतु ‘हार’ शब्द के आदि में जुड़ने से उसके अर्थ में उन्होंने परिवर्तन कर दिया, इसका मतलब हुआ कि यह सभी शब्दांश है और ऐसे शब्दांश को उपसर्ग कहते हैं |

नोट: उपसर्ग में संधि का भी नियम लगता है| किसी-किसी शब्द में एक से अधिक उपसर्ग भी आते हैं| जैसे- 

  • वि + आ + करण = व्याकरण
  • अन्+आ+चार = अनाचार
  • सत्+आ+चार = सदाचार

उपसर्ग के प्रकार

हिंदी में उपसर्ग को 3 भागों में विभाजित किया गया है |

  1. संस्कृत के उपसर्ग – तत्सम शब्दों में प्रयोग किये जाने वाले उपसर्ग संस्कृत के उपसर्ग होते हैं।
  2. हिंदी के उपसर्ग – तद्भव शब्दों में प्रयोग किये जाने वाले उपसर्ग को हिंदी के उपसर्ग कहते हैं।
  3. आगत उपसर्ग – हिंदी में प्रयोग किये जाने वाले विदेशी भाषाओं (अरबी, फारसी, उर्दू, अंगेजी) के उपसर्ग आगत उपसर्ग कहलाते हैं।

उपसर्ग के उदाहरण – Upsarg in Hindi

शब्दपर्यायवाची शब्द
अमृतसुधा, सोम, अमिय, जीवनोदक, सुरभोग, पीयूष, मधु, अमी, सुरभोग
अंकसंख्या, गिनती, क्रमांक, निशान
अलंकारविभूषण, गहना, आभूषण, भूषण, जेवर
अतीतविगत, गत, पूर्वकाल, भूतकाल
अवरोधरुकावट, विघ्न, व्यवधान
अनिष्टबुरा, अहित, नुकसान, अमंगल
अप्सरापरी, देवकन्या, अरुणप्रिया, देवांगना, देवबाला
असुरदानव, दैत्य, दनुज, निशाचर, राक्षस, रजनीचर, इन्द्रारी
अहंकारदंभ, मद, घमंड, मान, गर्व, अभिमान, दर्प
अंधकारतम, तिमिर, ध्वान्त, तमिस्रा, अँधेरा
अश्वघोडा, घोतक, तुरंग, हय, बाजी, सैन्धव
अग्निआग, अनल, पावक, ज्वाला, दहन, वैश्वानर, धूम्रकेतु, कृशानु, जातदेव
अंगअंश, अवयव, हिस्सा, भाग
अनुपमअपूर्व, अद्वितीय, अदभुत, अनन्य, अतुल, अनोखा, अनूठा
अनाजअन्न, धान्य, गल्ला, खाद्यान्न
अनुसरणअनुगमन, नकल, अनुकृत
अचानकअनायास, एकाएक, अकस्मात
अवज्ञाअनादर, अवहेलना, तौहीन, तिरस्कार, अपमान
अटलअडिग, स्थिर, दृढ़, निश्चल
अयोग्यनालायक, नाकाबिल, योग्यताहीन, अनर्ह
अर्जुनपार्थ, सहस्रार्जुन, धनंजय, गुडाकेश
अभिप्रायआशय, तात्पर्य, मतलब, अर्थ, उद्देश्य
अभयनिडर, साहसी, निर्भीक, निर्भय
अभिजातश्रेष्ठ, उच्च, कुलीन, खानदानी, पूज्य
अभिज्ञज्ञाता, जानकार, विज्ञ, परिचित
अनभिज्ञअज्ञानी, मूर्ख, मूढ़, नासमझ, अल्पज्ञ, अनजान
अभ्यासपुनरावृत्ति, रियाज़, दोहराना, मश्क
अमरमृत्युंजय, अविनाशी, अनश्वर, अक्षय
अमीरधनी, सम्पन्न, धनवान, पैसेवाला
अनन्तअसंख्य, अगणित, अपरिमित, बेशुमार
अंतसमाप्ति, अवसान, इति, इतिश्री, समापन

यह भी पढ़िए-

लेख के बारे में – इस आर्टिकल में हमने उपसर्ग की परिभाषा को पढ़ा, और कुछ महत्वपूर्ण उदाहरण के साथ यह भी जाना की उपसर्ग किसे कहते हैं।
इस लेख के बारे में अपनी राय कमेंट कर के बताएं, और the eNotes से लेटेस्ट अपडेट के लिए हमें 9151210531 पर Whatsapp करें |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here